Sunday, 18 November 2018

जीवन प्रमाण/ डिजिटल लाइफ सर्टिफिकेट (डीएलसी) के संबंध में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Frequently Asked Questions regarding Jeevan Pramaan/Digital Life Certificate 
जीवन प्रमाण/ डिजिटल लाइफ सर्टिफिकेट (डीएलसी) के संबंध में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

FAQ-for-Pensioners-Regarding-Digital-Life-Certificate-Hindi

जीवन प्रमाण/ डिजिटल लाइफ सर्टिफिकेट (डीएलसी) क्या है?
जीवन प्रमाण, पेंशनभोगियों के लिए बायोमेट्रिक एनेबाल्ड आधार आधारित डिजिटल लाइफ सर्टिफिकेट है। पेंशनभोगी अपने आधार और बायोमेट्रिक का इस्तेमाल करके अपना जीवन प्रमाण/ डीएलसी जेनेरेट कर सकते हैं।

यह सरकारी कार्यालयों/माध्यमों द्वारा जारी पारंपरिक लाइफ सर्टिफिकेट से कैसे अलग है?
जीवनप्रानन (डीएलसी) के लिए पेंशनभोगी को पेंशन वितरण अधिकारी के समक्ष खुद को व्यक्तिगत रूप से पेश करने की आवश्यकता नहीं है। डीएलसी को पेंशन वितरण एजेंसी (बैंक / डाकघर इत्यादि) को शारीरिक रूप से प्रस्तुत होकर जमा करने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि यह उनके लिए डिजिटल रूप से उपलब्ध है तथा यह स्वचालित रूप से पेंशन वितरण एजेंसी द्वारा प्रोसैस किया जाता है। इसके अलावा प्रत्येक डीएलसी में प्रामाणिक आईडी नामक एक अनूठी आईडी होती है।

क्या प्रामाणिक आईडी / जीवन प्रमाणन अथवा डीएलसी पूरे जीवन के लिए वैद्य है?
प्रमाणन आईडी / जीवन प्रमाणन पूरे जीवन के लिए वैद्य नहीं है। इसकी वैद्यता अवधि पेंशन स्वीकृति प्राधिकरण द्वारा निर्दिष्ट नियमों के अनुसार है। इसकी विद्यता अवधि खत्म होने पर एक नए जीवन प्रमाणन आईडी प्राप्त करना होता है।

जीवन प्रमाणन/डिजिटल लाइफ सर्टिफिकेट के लिए कौन पात्र हैं?
वैसे पेंशनभोगी जिनके पेंशन स्वीकृति प्राधिकरण (पीएसए) ने अपने आप को जीवन प्रमाणन से जोड़ लिया है वैसे सभी पेंशनभोगी जीवन प्रमाणन के लिए पात्र हैं। जीवन प्रमाणन से जुड़े सभी पीएसए की सूची जीवन प्रमाणन पोर्टल www.jeevanpramaan.gov.in के सर्क्युलर टैब के अंतर्गत देखा जा सकता है।
[post_ads]

जीवन प्रमाण/डिजिटल लाइफ सर्टिफिकेट कहाँ से प्राप्त किया जा सकता है?
डीएलसी आप निम्नलिखित स्थानों से प्राप्त कर सकते हैं -
  1. भारत भर में स्थित विभिन्न नागरिक सेवा केंद्र (सीएससी)
  2. पेंशन वितरण एजेंसियों (पीडीए) का कार्यालय जैसे डाकघर, बैंक, ट्रेजरी इत्यादि
  3. इसे घर पर अथवा किसी भी स्थान से विंडोज पीसी / लैपटॉप (वर्क 7 और ऊपर) या एंड्रॉइड मोबाइल (किटकैट और ऊपर) के माध्यम से उत्पन्न किया जा सकता है।
यदि डीएलसी अपने पीसी/लैपटाप/मोबाइल पर जेनेरेट करना हो तो क्या क्या चाहिए।
  1. इसके लिए एक एसटीक्यूसी प्रमाणित बॉयोमीट्रिक डिवाइस की आवश्यकता है।
  2. इस्तेमाल होने वाले बॉयोमीट्रिक डिवाइस की 'आरडी सेवा' पीसी / लैपटॉप / मोबाइल पर स्थापित की जानी चाहिए।
  3. आपके कम्प्युटर / मोबाइल पर 'जीवनप्रमान एप्लिकेशन' स्थापित होना आवश्यक है। इसे https://jeevanpramaan.gov.in पोर्टल के 'डाउनलोड' टैब से डाउनलोड किया जा सकता है।
  4. इंटरनेट कनेक्शन की भी आवश्यकता है।
मैं नागरिक सेवा केंद्र कैसे ढूंढ सकता हूँ?
आप https://jeevanpramaan.gov.in पोर्टल पर 'Locate Centre' पर क्लिक करके निकटतम सीएससी खोज सकते हैं या वैकल्पिक रूप से आप 7738299899 पर एसएमएस भेज सकते हैं। एसएमएस के लिए "जेपीएल" लिख कर स्पेस के बाद अपने शहर का पिन-कोड लिखना होगा, जैसे जेपीएल 110003 और इसे 7738299899 पर भेजना होगा।

जीवन प्रमाणन जेनेरेट करने के लिए पेन्सनर को कौन कौन सी जानकारी देने की आवश्यकता है?
जीवन प्रमाणन के लिए पेंशनर को अपना आधार नंबर, नाम, मोबाइल नंबर एवं स्वघोषित पेंशन संबन्धित जानकारी जैसे पीपीओ नंबर, पेंशन अकाउंट नंबर, बैंक डिटेल्स, पेंशन स्वीकृत करने वाले प्राधिकार का नाम, पेंशन भुगतान करने वाले प्राधिकार का नाम इत्यादि।  पेंशनभोगी को अपने बॉयोमीट्रिक्स जैसे आईरिस या फिंगरप्रिंट भी प्रदान करना होगा।  नोट: गलत जानकारी देने पर आपकी डीएलसी सक्षम अधिकारियों द्वारा अस्वीकार की जा सकती है।

सीएससी /पीडीए कार्यालय से जीवनप्रमाण बनाने की प्रक्रिया क्या है
  1. इसके लिए पेंशनर को सीएससी अथवा पीडीए कार्यालय का दौरा करना होगा। 
  2. पेन्सनर को सीएससी अथवा पीडीए कार्यालय के ऑपरेटर को आवश्यक जानकारी देना होगा।  तत्पश्चात ऑपरेटर द्वारा उस सूचना को सिस्टम अर्थात जीवन प्रमाण एप्लिकेशन मे एंटर किया जाएगा। 
  3. पेंशनभोगी को अपनी उंगलियों को फिंगर प्रिंट स्कैनर या अपनी आँखों को आईरिस स्कैनर के सामने रखकर अपनी बॉयोमीट्रिक्स प्रदान करना होगा।
  4. सफलतापूर्वक आधार आधारित बायोमेट्रिक प्रमाणीकरण के बाद, जीवनप्रमान को प्रामाणिक आईडी नामक एक यूनिक आईडी जेनेरट होगा।
  5. पेंशनभोगी द्वारा प्रदान किए गए मोबाइल नंबर पर प्रमान आईडी का एक पावती संदेश एसएमएस के रूप में प्राप्त होगा।
नोट - इस प्रकार उत्पन्न जीवनप्रमान / डीएलसी, पेंशनभोगी द्वारा प्रदत्त पेंशन स्वीकृति / वितरण प्राधिकरण की मंजूरी के पश्चात ही मान्य होगा।


क्या मुझे जीवन प्रमान i.e डीएलसी को अपने बैंक / डाकघर आदि में जमा करना है?
नहीं, आपको अपने डीएलसी को बैंक / डाकघर / पेंशन वितरण एजेंसी को जमा करने की आवश्यकता नहीं है। डीएलसी इलेक्ट्रॉनिक रूप से उनके लिए स्वत: उपलब्ध है।

क्या डिजिटल लाइफ सर्टिफिकेट यानी जीवनप्रानन जेनेरेट करने के बाद इसे ऑनलाइन डाउनलोड किया जा सकता है?
हां, एक बार आपका प्रामाणिक आईडी उत्पन्न हो जाने पर, आप https://jeevanpramaan.gov.in/ppouser/login लिंक पर क्लिक करके डिजिटल लाइफ सर्टिफिकेट डाउनलोड कर सकते हैं।

मैं अपने डिजिटल लाइफ सर्टिफिकेट की स्थिति कैसे जान सकता हूं, कि इसे स्वीकार या अस्वीकार कर दिया गया है?
डिजिटल लाइफ सर्टिफिकेट की स्थिति जानने के लिए आपको इसे https://jeevanpramaan.gov.in पोर्टल से डाउनलोड करने की आवश्यकता है।

यदि मुझे अपने मोबाइल पर एसएमएस मिले कि मेरा जीवन प्रमान खारिज कर दिया गया है, तो मुझे क्या करना चाहिए?
सर्वप्रथम अपनी पेंशन वितरण एजेंसी से संपर्क करें। डीएलसी उत्पन्न करते समय पेंशनभोगी द्वारा गलत विवरण प्रदान किए जाने पर जीवनप्रणान को खारिज कर दिया जाता है। यह सलाह दी जाती है कि नया जीवनप्रमान i.e Pramaan-ID जेनेरेट करें जिसमे सभी सही जानकारी और बॉयोमीट्रिक्स प्रदान करें।

क्या इलेक्ट्रॉनिक जीवन प्रामान i.e डीएलसी पेंशनभोगी के लिए अनिवार्य है?
जीवनप्रमान i.e डीएलसी जीवन प्रमाण पत्र जमा करने के पूर्व से ही मौजूदा अलग अलग तरीकों की सुविधा के अतिरिक्त एक सुविधा है।

आधार संख्या प्राप्त करने की प्रक्रिया क्या है?
आधार संख्या प्राप्त करने के लिए अपने शहर के निकटतम आधार नामांकन केंद्र से संपर्क करें।
आप यूआईडीएआई वेबसाइट https://appointments.uidai.gov.in से स्थायी आधार नामांकन केंद्रों की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

क्या यह प्रमाण पत्र मान्य है?
हां, डिजिटल लाइफ सर्टिफिकेट आईटी अधिनियम के तहत एक वैध प्रमाणपत्र है और यह मान्यता प्राप्त है। यह प्रणाली पेंशनभोगी को पेंशन वितरण प्राधिकरण के पास उपस्थित हुए बिना अपने जीवित होने का प्रमाण देने की सुविधा प्रदान करती है।

Source: https://jeevanpramaan.gov.in


https://facebook.com/govempnews/
https://feedburner.google.com/fb/a/mailverify?uri=blogspot/jFRICS&loc=en_US
https://twitter.com/govempnews/
Next Post
Previous Post

0 Comments: